मध्‍यप्रदेश विधान सभा के माननीय नेता प्रतिपक्ष की सूची

 

क्र. नाम विधान सभा अवधि
1. श्री विश्‍वनाथ यादवराव तामस्‍कर प्रथम (1956-1957)       17.12.1956  से 5.3.1957
2. श्री चन्‍द्र प्रताप तिवारी द्वितीय (1957-1962)            1.7.1957  से 7.3.1962
3. श्री वीरेन्‍द्र कुमार सखलेचा तृतीय (1962-1967)           28.3.1962  से 1.3.1967
4. श्री वीरेन्‍द्र कुमार सखलेचा चतुर्थ (1967-1972) 1.3.1967  से 18.7.1967
5. श्री श्‍यामाचरण शुक्‍ल चतुर्थ (1967-1972) 31.7.1967 से 8.9.1968
6. पं. द्वारिका प्रसाद मिश्र चतुर्थ (1967-1972) 9.9.1968  से 16.2.1969
7. श्री श्‍यामाचरण शुक्‍ल चतुर्थ (1967-1972) 17.2.1969  से 12.3.1969
8. श्री वीरेन्‍द्र कुमार सखलेचा चतुर्थ (1967-1972) 20.3.1969  से 6.1.1970
9. श्री वसंत सदाशिव प्रधान चतुर्थ (1967-1972)             7.1.1970  से 17.3.1972
10. श्री कैलाश जोशी पंचम् (1972-1977) 28.3.1972  से 30.4.1977
11. श्री अर्जुन सिंह षष्‍टम् (1977-1980) 15.7.1977  से 17.2.1980
12. श्री सुंदरलाल पटवा सप्‍तम् (1980-1985) 4.7.1980  से 10.3.1985
13. श्री कैलाश जोशी अष्‍टम् (1985-1990) 23.3.1985  से 3.3.1990
14. श्री श्‍यामाचरण शुक्‍ल नवम् (1990-1992) 20.3.1990  से 15.12.1992
15. श्री विक्रम वर्मा दशम् (1993-1998) 24.12.1993  से 1.12.1998
16. डॉ. गौरीशंकर शेजवार एकादश (1998-2003) 2.2.1999  से 1.9.2002
17. श्री बाबूलाल गौर एकादश (1998-2003) 4.9.2002  से 5.12.2003
18. श्रीमती जमुना देवी द्वादश (2003-2008) 16.12.2003  से 11.12.2008
19. श्रीमती जमुना देवी त्रयोदश (2008-2013) 7.1.2009  से 24.9.2010
20.. श्री अजय सिंह त्रयोदश (2008-2013) 15.4.2011  से 10.12.2013
21.. श्री सत्यदेव कटारे चतुर्दश (2013-2018)  9.1.2014  से 20.10.2016
22. श्री अजय सिंह चतुर्दश (2013-2018) 27.02.2017 से 13.12.2018
23. श्री गोपाल भार्गव पंचदश (2018-2023) 8.1.2019 से 23.3.2020
24. श्री कमल नाथ पंचदश (2018-2023) 19.8.2020 से 29.4.2022
25. डॉ. गोविन्द सिंह पंचदश (2018-2023) 29.4.2022 से निरन्तर
       
       
टिप्‍पणी :-
             
 (1) प्रथम से चतुर्थ विधान सभाओं में कोई मान्‍यता प्राप्‍त विरोधी दल नहीं था. तृतीय विधान सभा से ही विरोधी दल की मान्‍यता प्राप्‍त हुई. प्रथम विधान सभा में श्री विश्‍वनाथ यादवराव तामस्‍कर एवं द्वितीय विधान सभा में श्री चन्‍द्रप्रताप तिवारी, तत्‍कालीन विरोधी दलों में सबसे बड़े विरोधी दल के नेता थे.

              (2) सदन की कार्यवाहियों के अनुसार, प्रथम से चतुर्थ विधानसभा कार्यकाल तक नेता प्रतिपक्ष की मान्यता की घोषणा या बधाई उल्लेख नहीं किया गया. तथापि, विरोधी दल के वरिष्ठतम सदस्य के नाते नेता प्रतिपक्ष के रूप में महत्वपूर्ण भाषण दिए जाने के प्रमाण उपलब्ध हैं. तदनन्‍तर पंचम विधान सभा कार्यकाल में श्री कैलाश जोशी से निरन्‍तर नेता प्रतिपक्ष की मान्यता संबंधी घोषणाएं की गई हैं.